शनिवार, 11 सितंबर 2010

जीवन के पल

22 comments
हर गुजरा पल
              इक याद छोड़ जाता है ,
उस याद के भरोसे
              इक आस छोड़ जाता है ,
आस के बहकावे में
              इक सांस छोड़ जाता है ,
सांस की परछाई में
              इक घुटन छोड़ जाता है ,
घुटन में जकड़ कर
              इक जीवन छोड़ जाता है ,
जीवन को जीने के लिये
              इक इंसान छोड़ जाता है !!


                                                                         सुमन ‘मीत’