रविवार, 18 दिसंबर 2011

तेरा साथ

31 comments














जिन्दगी
बिखर जायेगी
या सवँर जायेगी
ना मालूम मुझे
पर......
तेरे साथ ने
जिन्दगी के
मायने बदल दिये ......  !!
                               सु..मन 

सोमवार, 28 नवंबर 2011

आखिरी इबारत

37 comments



जिंदगी की किताब खोली
देखा !
कितने पन्नें पलट गए
कुछ भरे
कुछ खाली....

कुछ में बैठे हैं शब्द
मेहमां बनकर
और
कुछ में हैं जज्बात
बेजुबान से....

रह गए हैं अब तो
चंद ही पन्ने बाकी 

हूँ इतंजार में
कब लिखेगी मौत
मेरी जिंदगी की
      आखिरी इबारत...........  


सुमन 'मीत' 





रविवार, 6 नवंबर 2011

बेरंग जिंदगी

34 comments


















क्यूँ जिंदगी हमसे आँख मिचोली करती है

      सुबह खुशी में खिलकर क्यूँ शाम गम में ढलती है

कहते हैं जिंदगी हर पल रंग बदलती है
      
      फिर क्यूँ हमें तस्वीर इसकी बेरंग सी झलकती है.........
                                                                    

                                       सुमन मीत   


मंगलवार, 20 सितंबर 2011

वो लम्हें....

46 comments














वो बीते दिन.....
उन दिनों का
हर एक लम्हा.....
आज भी
नहीं होता जुदा
स्मृति पटल से
एक क्षण के लिये भी.....

देखो ना !
इन पथरीली आँखों से
टपकने लगा है
उन लम्हों का सीलापन.....
वो लम्हें.....जो
महकते थे कभी
प्यार की खुशबू से...........


                         सु..मन 

रविवार, 4 सितंबर 2011

तन्हा सफर

33 comments















तन्हा सफर में सब बेअसर होता है
ना कुछ पाने ना खोने का गम होता है
ये सोच कर साथी की चाह छोड़ दी हमने
कि बिछड़ जाने का दिल पर असर होता है.................!!

                                सुमन 'मीत' 

शनिवार, 27 अगस्त 2011

अधूरी ख़्वाहिशें........

26 comments











सुनो !
आकर सहेज लेना
तुम
बरसने लगी हैं
आँखों से मेरे
वो हमारी
अधूरी ख़्वाहिशें........

                सुमन मीत


शुक्रवार, 5 अगस्त 2011

तू ही तू .....

38 comments






तेरी रंगत यूँ बिखरी मेरी आँखों में है
तेरी सरगोशी मेरे उलझे रुखसारों में है
तेरा एहसास यूँ जज़्ब मेरे जर्रे जर्रे में है
तेरा नाम अब मेरे हाथों की लकीरों में है........

                              

                              सुमन मीत

रविवार, 26 जून 2011

तन्हाई.......

34 comments












ये डूबा हुआ सूरज
दे आसमां को लाली
मिले पंछियों को बसेरा
मेरा दिल फिर भी खाली
                 फिर मिले आसमां को चन्दा
                 पौधों को रात की गहराई
                 नदी को चान्दनी की ठंडक
                 क्यों मिली हमें तन्हाई.......



                                सुमन 'मीत' 

मंगलवार, 7 जून 2011

इक क़तरा जिन्दगी का....

25 comments

















कह गई तुम्हारी खामोशी
तुम्हारे लब पे आई
हर बात
मेरे अश्क का क़तरा
मेरे लबों को सिल गया
और .....
वक्त लिख गया
खाली पन्नों पर
अपनी दास्तां.........!1
                             


                                                    सुमन मीत

बुधवार, 4 मई 2011

तेरा एहसास

37 comments




                मेरे चेहरे की रौनक बता देती है मुझे

                तेरा एहसास मेरी जिन्दगी बन गया है

                आईना शर्माता है अब मेरे अक्स से

                तेरा होना न जाने क्या जादू कर गया है...........





                                                                                                       सुमन 'मीत'

रविवार, 3 अप्रैल 2011

जिन्दगी

32 comments


                                       हर रक में एक सिसकी

                                              हर लफ़्ज में एक आह

                                       क्या वो तू ही थी जिन्दगी

                                              जिससे मांगी थी मैनें पनाह.....

                                                          

                                                                                       सुमन ‘मीत’

मंगलवार, 22 मार्च 2011

दूसरा कौन

34 comments

एक बार राधा से श्रीकृष्ण से पूछा - हे कृष्ण ! तुम प्रेम तो मुझसे करते हों परंतु तुमने विवाह मुझसे नहीं किया , ऐसा क्यों ? मैं अच्छे से जानती हूं तुम साक्षात भगवान ही हो और तुम कुछ भी कर सकते हों , भाग्य का लिखा बदलने में तुम सक्षम हों , फिर भी तुमने रुकमणी से शादी की , मुझसे नहीं।
राधा की यह बात सुनकर श्रीकृष्ण ने उत्तर दिया - हे राधे ! विवाह दो लोगों के बीच होता है। विवाह के लिए दो अलग-अलग व्यक्तियों की आवश्यकता होती है। तुम मुझे यह बताओं राधा और कृष्ण में दूसरा कौन है। हम तो एक ही हैं। फिर हमें विवाह की क्या आवश्यकता है। नि:स्वार्थ प्रेम, विवाह के बंधन से अधिक महान और पवित्र होता है। इसीलिए राधाकृष्ण नि:स्वार्थ प्रेम की प्रतिमूर्ति हैं और सदैव पूजनीय हैं।



शनिवार, 26 फ़रवरी 2011

तुम हो...

31 comments

                               तुम हो...


              मेरी हर साँस हर आस में तुम हो

            क्या बताऊँ तुम्हें कि मेरी प्यास तुम हो

            इन भीगी हुई पलकों की नमी तुम हो

            मेरे वजूद में समाए बस तुम ही तुम हो.......                                                                                        


                                                                        सुमन मीत  

गुरुवार, 27 जनवरी 2011

तन्हा हम

42 comments



 रोज शाम यूं ही रात में बदलती है
        
          पर हर रात अलग होती है

 कभी आँखें खाबों से बन्द रहती हैं
        
          कभी तन्हा ही नम रहती हैं !!