रविवार, 26 जून 2011

तन्हाई.......

34 comments












ये डूबा हुआ सूरज
दे आसमां को लाली
मिले पंछियों को बसेरा
मेरा दिल फिर भी खाली
                 फिर मिले आसमां को चन्दा
                 पौधों को रात की गहराई
                 नदी को चान्दनी की ठंडक
                 क्यों मिली हमें तन्हाई.......



                                सुमन 'मीत' 

मंगलवार, 7 जून 2011

इक क़तरा जिन्दगी का....

25 comments

















कह गई तुम्हारी खामोशी
तुम्हारे लब पे आई
हर बात
मेरे अश्क का क़तरा
मेरे लबों को सिल गया
और .....
वक्त लिख गया
खाली पन्नों पर
अपनी दास्तां.........!1
                             


                                                    सुमन मीत