मंगलवार, 20 सितंबर 2011

वो लम्हें....

46 comments














वो बीते दिन.....
उन दिनों का
हर एक लम्हा.....
आज भी
नहीं होता जुदा
स्मृति पटल से
एक क्षण के लिये भी.....

देखो ना !
इन पथरीली आँखों से
टपकने लगा है
उन लम्हों का सीलापन.....
वो लम्हें.....जो
महकते थे कभी
प्यार की खुशबू से...........


                         सु..मन 

रविवार, 4 सितंबर 2011

तन्हा सफर

33 comments















तन्हा सफर में सब बेअसर होता है
ना कुछ पाने ना खोने का गम होता है
ये सोच कर साथी की चाह छोड़ दी हमने
कि बिछड़ जाने का दिल पर असर होता है.................!!

                                सुमन 'मीत'