शुक्रवार, 5 अगस्त 2011

तू ही तू .....

38 comments






तेरी रंगत यूँ बिखरी मेरी आँखों में है
तेरी सरगोशी मेरे उलझे रुखसारों में है
तेरा एहसास यूँ जज़्ब मेरे जर्रे जर्रे में है
तेरा नाम अब मेरे हाथों की लकीरों में है........

                              

                              सुमन मीत