रविवार, 6 नवंबर 2011

बेरंग जिंदगी

34 comments


















क्यूँ जिंदगी हमसे आँख मिचोली करती है

      सुबह खुशी में खिलकर क्यूँ शाम गम में ढलती है

कहते हैं जिंदगी हर पल रंग बदलती है
      
      फिर क्यूँ हमें तस्वीर इसकी बेरंग सी झलकती है.........
                                                                    

                                       सुमन मीत