शनिवार, 7 अप्रैल 2012

अनकहा

35 comments















.....तुम्हारे कहने 
मेरे सुनने के बीच 

जो था अनकहा 

कह दिया 
तुम्हारी ख़ामोशी ने 

कि अब लफ़्जों की जरुरत नहीं हमें ....


                                                     सु ..मन