बुधवार, 4 दिसंबर 2013

मधुशाला

14 comments











जिंदगी  की  मधुशाला  में 
छलकते हैं लम्हों के जाम 
घूँट भरते हैं रात और दिन 
ढलती है उम्र की एक शाम 

ऐ जिंदगी ! तुझे सलाम .....


सु..मन 

रविवार, 17 नवंबर 2013

इबादत का सिला

10 comments















मेरी इबादत का मिला ये सिला मुझको 

खुदा बन के 'मन' अब वो पत्थर हो गया ।।




सु..मन



शुक्रवार, 11 अक्तूबर 2013

खलिश

17 comments















जाने कैसी खलिश है जिंदगी-ए-अहसास में 

'मन' की खामोशी में जानलेवा सा दर्द क्यूँ है !!





सु..मन 

गुरुवार, 3 अक्तूबर 2013

जाम-ए-हसरत

24 comments











जाम - ए - हसरत न रख ख़ाली ऐ साकी 
तमाशा-ए-जिंदगी का जश्न बाकी है अभी !!


सु..मन 

रविवार, 22 सितंबर 2013

तेरी याद

24 comments











रात चुनती रही
शबनम तेरी याद की

पलकें सहेजती रही
आँखों के आशियाने में

ख्वाब भीगते रहे
अश्कों की बारिश में

सीले से लफ़्ज
फड़फड़ाते रहे लबों पे

यूँ कटती रही रात
बस तेरी याद के साथ !!

सु..मन 

रविवार, 1 सितंबर 2013

लिखने की कोई वजह नहीं ,बस यूँ ही बेवजह

35 comments
                            
             एक खाली सुबह को अपनी बाहों में भरते हुए सूरज ने कहा,जानती हो ! कल संध्या में जब मैं रात के आगोश में छिप रहा था तो मैं कितना शांत अनुभव कर रहा था | इसलिए नहीं कि सारा दिन न चाहकर भी इस धरा पर आग बरसा कर मैं थक चुका होता हूँ बल्कि इसलिए कि सारा दिन मेरी तपिश को सहन करती इस धरा को राहत मिल जाती है | ये तरुवर ये पीली पड़ती इसकी डालियाँ , नदी के दामन में सिमटी ये शिलाएं जब मेरी किरणों के स्पर्श से दहकने लगती हैं , ये पंछी पखेरू जब व्याकुल हो अपने आशियाने में दुबक कर करते हैं इन्तजार मेरे छिपने का और जब कोई जिंदगी सो जाती है गहरी नींद मौत के आगोश में तो कितना निरीह होता हूँ मैं उस समय | तब मेरे भीतर के बिखराव से कितना टूट जाता हूँ मैं ये कोई क्या जाने | संध्या के आगमन में जब इस सागर में दूर क्षितिज में विलीन हो जाता हूँ मैं तो दिन से विदा लेते हुए भी आनंदित होता हूँ और नहीं चाहता फिर से उगना | पर..इस समय चक्र में बंधा मैं जकडा हूँ इस समय के बाहुपाश में | इसलिए मेरी प्रिय सुबह , न चाह कर भी तुम्हे एक और सुलगते दिन में बदलने फिर से तुम्हें अपनी बाहों मे भर रहा हूँ ...!!

हर रोज मिलन से सकूँ मिले जरुरी तो नहीं... सकूँ गर हो तो मिलन में राहत हो या तपिश ...सब एक से महसूस होते हैं शायद !


(लिखने की कोई वजह नहीं, बस यूँ ही बेवजह)
सु..मन 

शनिवार, 10 अगस्त 2013

तन्हाई

16 comments








..............सबको 
कुछ देने के बाद 
जो शेष है तुम में 
दे दो वो मुझको 
अपनी ये तन्हाई !!


सु..मन 

रविवार, 14 जुलाई 2013

खलिश

26 comments
                            

                                      इस भीगी शाम में सीली याद सी 
                                      इक तेरी खलिश है बेहिसाब सी !!


                                                                                                                                                                                                   सु..मन 

बुधवार, 19 जून 2013

ऐतबार

21 comments
















एक जिद तेरी मुझसे रूठ जाने की
 
एक मिन्नत मेरी फिर तुझे मनाने की


एक प्यार तेरा मुझे यूँ सताने का


एक ऐतबार मेरा तेरे लौट आने का !!



सु..मन 

शुक्रवार, 31 मई 2013

दिल दा नीड़

17 comments















इक उसनो ही असी अपना बनाया सी 
इस  दिल  दे  नीड़  विच  बसाया  सी 
कि  होया जे  ओ पंछी  हुण  उड़ गया 
इक  साडे नसीब ने  दगा कमाया सी !!


सु..मन 

शनिवार, 18 मई 2013

रिहाई

25 comments




















उसने दे दी अपनी हर साँस से रिहाई मुझको 
कुछ इस तरह उसने अपना हक अदा कर दिया !!


सु..मन 

शनिवार, 27 अप्रैल 2013

तेरे नां दी इक बूँद

21 comments
















तेरे नां दी इक बूँद जे चख लूँ तां अमृत होए 

साहां ते रुलदी पई रूह नू हुण बसेरा दे दे ..!!






सु~मन 

बुधवार, 10 अप्रैल 2013

तेरा ख़याल

26 comments











मसरूफियत में खुद को अब डूबा लिया है हमने 
तेरे ख़यालों को इस तरह अब धोखा देते हैं हम !!

सु~मन 

शनिवार, 2 मार्च 2013

एहसास

19 comments















तेरे एहसास को मैं भर लूँ बाहों में सनम 
फिज़ा में फैली है आज खुशबू तेरे प्यार की ..!! 



सु-मन 

शनिवार, 23 फ़रवरी 2013

ख्वाब

27 comments














सुनो ! 
आज दावत दी है मैंने 
ख़्वाबों को 
तुम्हारी आखों में 
आने के लिए 
आज मत करना इन्तजार 
मेरे आने का 
बस पलकें मूँदना 
और महसूस करना 
मेरे अहसास को 
ख्वाबों के गुलशन में 
अहसास का आशियाँ बनाएंगे 
सुना है ... 
कुछ ख्वाब पूरे हो जाया करते हैं ......!!


सु-मन