शुक्रवार, 31 मई 2013

दिल दा नीड़

17 comments















इक उसनो ही असी अपना बनाया सी 
इस  दिल  दे  नीड़  विच  बसाया  सी 
कि  होया जे  ओ पंछी  हुण  उड़ गया 
इक  साडे नसीब ने  दगा कमाया सी !!


सु..मन 

शनिवार, 18 मई 2013

रिहाई

25 comments




















उसने दे दी अपनी हर साँस से रिहाई मुझको 
कुछ इस तरह उसने अपना हक अदा कर दिया !!


सु..मन