शुक्रवार, 31 मई 2013

दिल दा नीड़

17 comments















इक उसनो ही असी अपना बनाया सी 
इस  दिल  दे  नीड़  विच  बसाया  सी 
कि  होया जे  ओ पंछी  हुण  उड़ गया 
इक  साडे नसीब ने  दगा कमाया सी !!


सु..मन