रविवार, 14 जुलाई 2013

खलिश

26 comments
                            

                                      इस भीगी शाम में सीली याद सी 
                                      इक तेरी खलिश है बेहिसाब सी !!


                                                                                                                                                                                                   सु..मन