बुधवार, 21 मई 2014

सरहद से परे

12 comments




















हदों में मत सिमटना
हदों से फिर सरहदें बनती हैं

उड़ना पंछी सी अलबेली उड़ान
सरहद पार भी जिंदगी पनपती है !!



सु..मन