सोमवार, 13 अक्तूबर 2014

ख़ामोशियाँ

7 comments









बे-हद होती हैं ये ख़ामोशियाँ 
टूटती नहीं, हर हद तोड़ जाती हैं !!


सु-मन