गुरुवार, 16 अक्तूबर 2014

ख़लिश

14 comments












बहुत जानलेवा है ख़लिश तेरी 
साँस आती नहीं..जान जाती नहीं !!


सु-मन