मंगलवार, 23 दिसंबर 2014

टूटती नेमतें

10 comments












टूट कर बिखर जाती हैं अक्सर नेमतें 
वक़्त की शाख से लम्हें झड़ने के बाद !!



सु-मन