बुधवार, 28 अक्तूबर 2015

बोझ धरा का

15 comments













बढ़ रहा धरा के सीने पर बोझ शायद 
कि दिल इसका भी अब ज़ोर से धड़कने लगा है !!

सु-मन 

मंगलवार, 6 अक्तूबर 2015

तर्पण

10 comments














तर्पण की हर इक बूँद में समाया है पित्तरों का नेह 
अर्पण कर अंजुरी भर जल बरसता है यादों का मेह !!


सु-मन