शनिवार, 31 जनवरी 2015

जाम-ए-तन्हाई

10 comments













बाद – ए- अरसे लौटा है तेरा ख़याल
जाम –ए- तन्हाई की तलब होने को है !!



सु-मन