बुधवार, 11 मार्च 2015

आदतन

9 comments














आदतन उसने झूठ से फिर बहलाया हमको
आदतन हम फरेब-ए-वफ़ा को सच मान बैठे !!

सु-मन