बुधवार, 28 अक्तूबर 2015

बोझ धरा का

15 comments













बढ़ रहा धरा के सीने पर बोझ शायद 
कि दिल इसका भी अब ज़ोर से धड़कने लगा है !!

सु-मन