शुक्रवार, 11 दिसंबर 2015

पहचान

6 comments















आईना रोज़ ढूँढता है मुझमें मेरी पहचान 
मैं देख कई अक्स अपने सोच में पड़ जाता हूँ !!

सु-मन