सोमवार, 24 अक्तूबर 2016

तुम और मैं -२



मेरी धड़कन मेरे होने का प्रमाण है और तुम धड़कन की गति |

प्रमाणित है कि जिंदगी चल रही है !!

सु-मन 

3 comments:

Rohitas ghorela ने कहा…

वाह....


: रू-ब-रू

संजय भास्‍कर ने कहा…

...लाजवाब लिखा है आपने....बहुत सुंदर।

Digamber Naswa ने कहा…

प्रेम की ही गति है ...

एक टिप्पणी भेजें