बुधवार, 24 फ़रवरी 2016

झुलस रहा मेरा वतन

9 comments


















झुलस रहा है देखो , हर ओर मेरा वतन 
सेंक रहा चिता कोई , अपने ही हमवतन की !!


सु-मन