सोमवार, 9 अक्तूबर 2017

हुनर

2 comments




















समेट लेना खुद को , अपने दायरे में 
सिखा देता है ये हुनर , वक़्त आहिस्ता आहिस्ता !!


सु-मन