शनिवार, 3 जून 2017

बस यूँ ही ~ 1

5 comments



झील की चादर पर पड़ गई हैं सिलवटें 
आज फिर, मस्त पवन उससे मिलने आया है !!


सु-मन