शुक्रवार, 11 अगस्त 2017

खाली हसरतें

4 comments



खाली हसरतों की 
होती है मियाद 
बस इतनी ....

भीतर के भरेपन में 
होती है खाली 
जाम-ए-पनाह जितनी.. !!


सु-मन