शुक्रवार, 18 अगस्त 2017

शापित मंजिलें

3 comments




















... स्थितियाँ 
बदल देती हैं 
राह जिंदगी की ...

... मंजिलें
अक्सर अकेली रह 
शापित हो जाया करती हैं !!


सु-मन