शुक्रवार, 25 मई 2018

ख़लिश

2 comments





















एक ख़लिश सी पसरी है हर तरफ हरसू 
नुमाइश-ए-ज़ीस्त से इक धूल उतरती जाती है !!


सु-मन