शनिवार, 2 जून 2018

तेरा अश्क़ मेरा दामन

2 comments
















गिरा तेरी आँख से इक क़तरा अश्क का
मेरा दामन यूँ सहरा से सागर बन गया ।।



सु-मन