बुधवार, 30 अप्रैल 2014

गहनता ही दुख का मूल कारण

बात बहुत अजीब है पर सच्ची है। रिश्ते की गहराई में दुख भी उतना ही गहरा होता है। जितना गहरा रिश्ता उतना ही गहरा दुख | दिखता नहीं है पर दबा होता है कहीं, किसी कोने में | जैसे- जैसे रिश्ता गहराता जाता है दुख भी प्रकट होने लगता है धीरे-धीरे | रिश्ता जब धीरे-धीरे अपनी पकड़ पाने लगता है तभी असल में उस रिश्ते से हमारा परिचय होने लगता है , धुन्ध छंटने लगती है , सब खुलने लगता है तो जान पाते हैं कि जो था एक छलावा था , भ्रम था पर तब तक इंसान उस रिश्ते में कई पड़ाव जी चुका होता हैं | जब तक किसी रिश्ते से दुख नहीं जुड़ा वो रिश्ता है ही कहाँ , उसका अस्तित्व ही नहीं , वो रिश्ता अभी पका ही नहीं , बीज अभी फूटा ही नहीं ,कोंपलें ही नही आई , खुशबू फैली ही नहीं तो रिश्ता है कहाँ.. कहीं नहीं | रिश्ता जब धीरे-धीरे परिपक्व होगा गहराएगा तभी तो अनुभूति होगी पहचान होगी उस रिश्ते से | साफ तस्वीर तो तभी नज़र आएगी | दिखेगा रिश्ता क्या कुछ समेटे था अपने अन्दर जो अभी तक गुम था अब सामने है |
                  रिश्ता जब बन्धता है तब इंसान एक तालाब की तरह होता है ,शांत है वो , अभी पूर्ण रूप से बन्धा नहीं है किसी से | उसने जाना ही नहीं कि रिश्ते का तानाबाना क्या है | वो बस शांत है | पर जब रिश्ता बन्ध गया तो वो उस रिश्ते में जीने लगता है साथ-साथ | तब उसकी स्थिति एक नदी की तरह होती है , कहीं पर शांत कहीं पर हलचल | मन किया तो चल दिये एक दो कदम रिश्ते में बन्धते हुए न मन किया तो ठहरे रहे | धीरे-धीरे इंसान गति पकड़ लेता है रिश्ते में डूबता जाता है | फिर वो स्थिति आ जाती है रिश्ता गहनता की चरम सीमा पर होता है तो इंसान की स्थिति एक समुद्र सी हो जाती है | बाहर से हलचल अन्दर से शांत | अजीब सी लगती है ये बात शायद कि जब इंसान अन्दर आत्मिक रूप से शांत है  बाहरी हलचल से क्या फर्क पड़ेगा | फर्क पड़ता है | Our external feeling depends upon internal depth . बाहरी आवेश का जुड़ाव है कहीं अन्दर से , जो कुछ निकला बाहर वो कहीं न कहीं अन्दर दबा पड़ा है | अन्दर वो शांत रह कर सिवाए अपने को दुख नहीं तो क्या दे रहा है और बाहरी हलचल उस रिश्ते से मिले दुख का विरोधाभास नहीं तो क्या है ||

                                         
सु..मन

10 comments:

chandan bhati ने कहा…

shandar pratuti

रूपचन्द्र शास्त्री मयंक ने कहा…


बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
--
आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा आज बृहस्पतिवार (01-05-2014) को श्रमिक दिवस का सच { चर्चा - 1599 ) में अद्यतन लिंक पर भी है!
--
हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
सादर...!
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

sadhana vaid ने कहा…

दुःख का मूल कारण रिश्ते से मिली अनपेक्षित चोट या दुःख होते हैं ! रिश्ते की गहनता जितनी तीव्र होगी अपेक्षाएं भी उतनी ही प्रबल होंगी और उनके टूटने का दर्द भी असह्य होगा लेकिन इसके विपरीत यदि उतनी ही ईमानदारी से अपेक्षाएं पूर्ण होती हैं तो सुख की गहनता भी और बढती ही जाती है और तब इस रिश्ते से मिलने वाली खुशी का कोई सानी नहीं होता !

Udan Tashtari ने कहा…

सही कहा....अच्छा लगा पढ़कर.

राजीव कुमार झा ने कहा…

बहुत सुंदर.रिश्तों में गहनता,ईमानदारी जरूरी है.
नई पोस्ट : पृथ्वी पर जीवन की शुरुआत

कविता रावत ने कहा…

रिश्तों पर बहुत सुन्दर विचार

राहुल ने कहा…

shaandaar aur badhiya post..

DR. ANWER JAMAL ने कहा…

इस बात से भी फ़र्क़ पड़ता है कि जिस से रिश्ता बँध रहा है उसे रिश्ता निभाना आता है या नहीं ?, और खुद को भी.

डॉ. मोनिका शर्मा ने कहा…

विचारणीय बात .....

Dr.NISHA MAHARANA ने कहा…

nice....

एक टिप्पणी भेजें