बुधवार, 23 जून 2021

मदहोशी का आलम

11 comments


.


















.....हमसे मत पूछो मदहोशी का आलम 
अधजगी सी आँखों में सोया सा ख़याल है !!


सु-मन 

सोमवार, 28 दिसंबर 2020

सर्द हवाएँ

7 comments

 










बहुत सर्द हैं हवाएँ

घना कोहरा बेहिज़ाब है

जर्द पत्तों में है ख़ामोशी

तेरी ख़लिश बेहिसाब है !!


सु-मन 

शनिवार, 17 अक्तूबर 2020

बिखरी खुशबू

8 comments

 











बिखर के फ़ना हो जाऊं ये मेरी किस्मत ही सही
फिज़ा में खुशबू बन बिखरुं ये भी कम तो नहीं !!


सु-मन 

सोमवार, 12 अक्तूबर 2020

तुम और मैं -१०

5 comments

















...तुम !
मेरे नाम, कर दो
अपना अधूरा ज्ञान


....मैं !
नि:श्वास, तुझ भीतर 
बनूँ तेरा अभिज्ञान ।



सु-मन

मंगलवार, 8 सितंबर 2020

चाहत

6 comments















बहुत जी लिया - २ तुझको जीते जीते
तुझमें खो कर खुद को, अब पाने की चाहत है !!

सु-मन 

शुक्रवार, 21 अगस्त 2020

मदमस्त फुहार

7 comments
सुबह ऑफिस जाते हुए रास्ते का नज़ारा 













ये श्वेत सा जब बिखर गया
हरित सी इन फ़िज़ाओं में
झूम उठा माटी का कण कण
भादो की मदमस्त फुहारों में !!

सु-मन 

शुक्रवार, 7 अगस्त 2020

मन की रुबाई

8 comments




















मन की रूबाइयों पर मत जा ऐ साकी 
जाम भर और रूह को रिंदाना कर दे !!

सु-मन 
www.hamarivani.com
CG Blog www.blogvarta.com blogavli
CG Blog iBlogger