मंगलवार, 20 सितंबर 2011

वो लम्हें

46 comments














वो बीते दिन
उन दिनों का
हर एक लम्हा
आज भी
नहीं होता जुदा
स्मृति पटल से
एक क्षण के लिये भी |

देखो ना !
इन पथरीली आँखों से
टपकने लगा है
उन लम्हों का सीलापन
वो लम्हें.....जो
महकते थे कभी
प्यार की खुशबू से !!


                         सु-मन