शुक्रवार, 13 जुलाई 2018

मोहलतें

4 comments





















मैंने ख़यालों में रखी हैं कुछ मोहलतें
तुम आकर रख जाना कुछ वक़्त मेरी ख़ातिर !!



सु-मन 

शुक्रवार, 29 जून 2018

दर्द

4 comments

मेरे दर्द की खबर भी न हुई ज़माने को
दर्द मुझको और मैं दर्द को यूँ जीता रहा !!



सु-मन 

मंगलवार, 12 जून 2018

शबनमी ख्वाब

4 comments























देर रात चाँद सोता रहा पलकों तले
चाँदनी तेरे ख्वाब को शबनमी करती रही !!



सु-मन 

शनिवार, 2 जून 2018

तेरा अश्क़ मेरा दामन

2 comments
















गिरा तेरी आँख से इक क़तरा अश्क का
मेरा दामन यूँ सहरा से सागर बन गया ।।



सु-मन 

शुक्रवार, 25 मई 2018

ख़लिश

2 comments





















एक ख़लिश सी पसरी है हर तरफ हरसू 
नुमाइश-ए-ज़ीस्त से इक धूल उतरती जाती है !!


सु-मन 

सोमवार, 20 नवंबर 2017

तुम और मैं -९

4 comments















मैंने दीया जला कर 
कर दी है रोशनी ...
तुम प्रदीप्त बन 
हर लो, मेरा सारा अविश्वास |

मेरे आराध्य !
आस के दीये में 
बची रहे नमी सुबह तलक !!


सु-मन 

सोमवार, 9 अक्तूबर 2017

हुनर

2 comments




















समेट लेना खुद को , अपने दायरे में 
सिखा देता है ये हुनर , वक़्त आहिस्ता आहिस्ता !!


सु-मन