गुरुवार, 15 नवंबर 2018

...शाम
























......शाम 
ख़याल के सीने पर 
सोया हुआ 
नज़्म का एक टुकड़ा !!


सु-मन 

8 comments:

मन की वीणा ने कहा…

वाह उम्दा ।

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक' ने कहा…

आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल शुक्रवार (16-11-2018) को "भारत विभाजन का उद्देश्य क्या था" (चर्चा अंक-3157) पर भी होगी।
--
सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
--
चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
--
हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
सादर...!
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

दिगम्बर नासवा ने कहा…

बहुत ख़ूब ...

शिवम् मिश्रा ने कहा…

ब्लॉग बुलेटिन की दिनांक 15/11/2018 की बुलेटिन, " इंक्रेडिबल इंडिया के इंक्रेडिबल इंडियंस - ब्लॉग बुलेटिन “ , में आप की पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

अनीता सैनी ने कहा…

वाह !!बहुत खूब 👌

Onkar ने कहा…

सुन्दर पंक्तियाँ

Kailash Sharma ने कहा…

वाह...बहुत सुन्दर

MECHANICAL ENGINNERING ने कहा…

my website is mechanical Engineering related and one of best site .i hope you are like my website .one vista and plzz checkout my site thank you, sir.
<a href=” http://www.mechanicalzones.com/2018/11/what-is-mechanical-engineering_24.html

टिप्पणी पोस्ट करें