रविवार, 6 नवंबर 2011

बेरंग जिंदगी



















क्यूँ जिंदगी हमसे आँख मिचोली करती है

      सुबह खुशी में खिलकर क्यूँ शाम गम में ढलती है

कहते हैं जिंदगी हर पल रंग बदलती है
      
      फिर क्यूँ हमें तस्वीर इसकी बेरंग सी झलकती है !!
                                                                    

                                       सु-मन  


34 comments:

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

खूबसूरत रचना

vandan gupta ने कहा…

बस यही तो ज़िन्दगी का रंग है।

शाहिद मिर्ज़ा ''शाहिद'' ने कहा…

बहुत अच्छी रचना, सुमन जी बधाई.

amit kumar srivastava ने कहा…

कांटों से निकलने की गर राह न हो,
उनमें ही रहो यूँ किसी फ़ूल (सुमन) की तरह !!

मनोज कुमार ने कहा…

यही तो ज़िन्दगी की खासियत है।

अनुपमा पाठक ने कहा…

बेरंग भी एक रंग ही है जिंदगी का!

Udan Tashtari ने कहा…

बेरंग भला वो कहाँ...ये तो हमारी नज़र को ही धोका होता है..

Sunil Kumar ने कहा…

इसी को तो रंगबिरंगी ज़िंदगी कहते हैं ....

डॉ. मोनिका शर्मा ने कहा…

अजब रंग समेटे ज़िन्दगी..... बहुत सुंदर

sushma verma ने कहा…

bhaut khub.....

गिरीश बिल्लोरे मुकुल ने कहा…

अति सुन्दर

Yashwant Mathur ने कहा…

बहुत खूब सुमन जी।
----

कल 08/11/2011को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
धन्यवाद!

Arun sathi ने कहा…

सुबह खुशी
शाम गम
यही तो है
जीवन का रंग
बहुत खुबसूरत..आभार

SURENDRA KUMAR SHUKLA BHRAMAR5 ने कहा…

सुमन मीत जी बहुत सुन्दर सार्थक ...इसी लिए तो ये जिन्दगी कहलाती है ...प्यार बरसाती है ...झिलमिल रंग में दोनों पहलू ...
आभार आप का
भ्रमर ५

Unknown ने कहा…

bahut khub

Hair Hair Hair

संध्या आर्य ने कहा…

A mixture of all of the colors is the life,
What makes the color is the color of the life dear!!

नीरज गोस्वामी ने कहा…

बहुत सुन्दर रचना...बधाई स्वीकारें

नीरज

रचना दीक्षित ने कहा…

जिंदगी की इस आँख मिचोली के बीच में कब जिंदगी कब गुजर जाती है पता ही नहीं चलता. सुंदर प्रस्तुत.

Pallavi saxena ने कहा…

ज़िंदगी की यही रीत है हार के बाद ही जीत है ...थोड़े आँसू, हैं थोड़ी खुशी ....आज गम है तो कल है खुशी।

SAJAN.AAWARA ने कहा…

aab tak is jamane ko ham jaan na paye,
jindgi to kya, khud ko pahchan na paye...

jai hind jai bharat

Urmi ने कहा…

ज़िन्दगी की सच्चाई को बड़े ही खूबसूरती से प्रस्तुत किया है आपने! बहुत सुन्दर तस्वीर!

S.M.HABIB (Sanjay Mishra 'Habib') ने कहा…

सुन्दर प्रस्तुति....
सादर...

G.N.SHAW ने कहा…

swarth vash और कुछ नहीं !

दिगंबर नासवा ने कहा…

यही तो जिंदगी है ... अक्सर बेरंगी हो जाती है ...

Unknown ने कहा…

बहुत ही सुन्दर सवालों की झडी आपने बरसाई है....जहाँ सवाल ही खुद-ब-खुद जवाब है!

Anupama Tripathi ने कहा…

yahi hai zindagi ....
sunder rachna ...

Satish Saxena ने कहा…

यही जिंदगी है ....
शुभकामनायें आपको!

M VERMA ने कहा…

yakeenan yahi hai jindagi

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

आपकी किसी नयी -पुरानी पोस्ट की हल चल कल 10- 11 - 2011 को यहाँ भी है

...नयी पुरानी हलचल में आज ...शीर्षक विहीन पोस्ट्स ..हलचल हुई क्या ???/

Kunwar Kusumesh ने कहा…

यही तो ज़िंदगी है.

yogesh ने कहा…

रंग व नूर की सौगात किसे पेश करूं.....

Always Unlucky ने कहा…

Very interesting article! For lots more such and positively do succeed on-line!

Take a look here Smart people 2

पूनम श्रीवास्तव ने कहा…

suman ji
jindgi ke hote rang hajaar
hanste -hanste sah lo yaar
bahut sundar prastuti
poonam

रविंद्र "रवी" ने कहा…

सुमन जी बधाई.बहुत अच्छी रचना! आभार!

एक टिप्पणी भेजें