सोमवार, 28 नवंबर 2011

आखिरी इबारत

37 comments



जिंदगी की किताब खोली
देखा !
कितने पन्नें पलट गए
कुछ भरे
कुछ खाली....

कुछ में बैठे हैं शब्द
मेहमां बनकर
और
कुछ में हैं जज्बात
बेजुबान से....

रह गए हैं अब तो
चंद ही पन्ने बाकी 

हूँ इतंजार में
कब लिखेगी मौत
मेरी जिंदगी की
      आखिरी इबारत...........  


सु-मन





रविवार, 6 नवंबर 2011

बेरंग जिंदगी

34 comments


















क्यूँ जिंदगी हमसे आँख मिचोली करती है

      सुबह खुशी में खिलकर क्यूँ शाम गम में ढलती है

कहते हैं जिंदगी हर पल रंग बदलती है
      
      फिर क्यूँ हमें तस्वीर इसकी बेरंग सी झलकती है !!
                                                                    

                                       सु-मन  


रविवार, 3 अप्रैल 2011

जिन्दगी

32 comments


                                       हर रक में एक सिसकी

                                              हर लफ़्ज में एक आह

                                       क्या वो तू ही थी जिन्दगी

                                              जिससे मांगी थी मैनें पनाह !!

                                                          

                                                                                       सु-मन

मंगलवार, 22 मार्च 2011

दूसरा कौन

34 comments

एक बार राधा से श्रीकृष्ण से पूछा - हे कृष्ण ! तुम प्रेम तो मुझसे करते हों परंतु तुमने विवाह मुझसे नहीं किया , ऐसा क्यों ? मैं अच्छे से जानती हूं तुम साक्षात भगवान ही हो और तुम कुछ भी कर सकते हों , भाग्य का लिखा बदलने में तुम सक्षम हों , फिर भी तुमने रुकमणी से शादी की , मुझसे नहीं।
राधा की यह बात सुनकर श्रीकृष्ण ने उत्तर दिया - हे राधे ! विवाह दो लोगों के बीच होता है। विवाह के लिए दो अलग-अलग व्यक्तियों की आवश्यकता होती है। तुम मुझे यह बताओं राधा और कृष्ण में दूसरा कौन है। हम तो एक ही हैं। फिर हमें विवाह की क्या आवश्यकता है। नि:स्वार्थ प्रेम, विवाह के बंधन से अधिक महान और पवित्र होता है। इसीलिए राधाकृष्ण नि:स्वार्थ प्रेम की प्रतिमूर्ति हैं और सदैव पूजनीय हैं।



गुरुवार, 27 जनवरी 2011

तन्हा हम

42 comments



 रोज शाम यूं ही रात में बदलती है
        
          पर हर रात अलग होती है

 कभी आँखें खाबों से बन्द रहती हैं
        
          कभी तन्हा ही नम रहती हैं !!

सु-मन